बिलासपुर । जिले में भी इस बार दीपावली में इको-फ्रेंडली दीयों से घर-आंगन को रोशन करने के लिए SLR सेंटर व गौठानो में महिला समूह की महिलाओ के द्वारा दिया बनाने की तैयारियां शुरू कर दी है। गोबर-मिट्टी से बने रंग-बिरंगे आकर्षक दीये महिलाओं को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर भी बना रहे हैं।लगातार दो वर्ष से इस कार्य को किया जा रहा है। इको-फ्रें डली दीयों की कीमत 25 रूपये दर्जन के हिसाब से तय किया गया है।

दरअसल हमारे देश के सबसे बड़े और सर्वाधिक महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक त्योहार दिपावली है।इस त्यौहार के उत्सुकता अमीर-गरीब सभी को रहती है इसकी तैयारी में अब लोग जुट गए हैं। महिलाएं भी अपने हाथों से इको-फ्रें डली दीये बनाने में जुटी हुई हैं।और स्थानीय महिलाओं को इस तरह के रोजगार मिलने से वे आत्मनिर्भर बन रही हैं।महिलाओं ने इसे अपनी आर्थिक और सामाजिक स्थिति मजबूत करने का जरिया बताया है।

स्व-सहायता समूह की महिलाओं के हाथों गाय के गोबर और मिट्टी से दीये बनाने का काम तेजी से चल रहा है।साथ ही साथ दीयों को कलर्स से पेंट से रंगाकर आकर्षक रूप देने में महिलाएं जुटी हुई हैं,, इस बार इको-फ्रें डली दीयों से शहर के हजारों घर रोशन होंगे।हम सभी को इको फ्रेंडली दिये जलाकर घरों को जगमग करना चाहिए।अगर हम इस दिये की खरीददारी करेंगे तो इनके मिलने वाले इंकम से इन महिलाओं के घर भी जगमगाते रहेंगे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here