बिलासपुर। छत्तीसगढ़ के कांग्रेसी असम में संभाले मोर्चा
असम में होने वाले विधानसभा के चुनाव के वरिष्ठ पर्यवेक्षक छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भुपेश बघेल को बनाने के बाद असम के चुनाव में छत्तीसगढ़ का तड़का लग गया।
संकल्प शिविर और कैडर बेस संगठन को अनुशासन में ढाल कर छतीसगढ़ में 15 साल से सत्ता के बाहर रह रही कांग्रेस को जिस तरह भुपेश बघेल ने शानदार वापसी दिलाई उसकी असर सिर्फ छत्तीसगढ़ ही नही असम में भी देखने को मिल रहा है।

संगठन से सत्ता का मार्ग प्रशस्त करने वाले भुपेश बघेल ने पूरे चुनाव की बागडोर अपने हाथ मे ले ली है और इसी कड़ी में कुशल रणनीतिकार अटल श्रीवास्तव के मार्गदर्शन में बिलासपुर जिले के कांग्रेसियों को भी असम के जोनाई विधानसभा में जिम्मेदारी दी गई है।

इस विषय पर चुनावी कमान संभाल रहे सन्दीप शुक्ला ने बताया कि जोनोइ विधानसभा के साथ ही पूरे असम में बदलाव की लहर है, महंगाई, रिश्वतखोरी,साम्प्रदायिक भेदभाव, भरस्टाचार भाजपा के पर्याय बन चुके हैं इन सभी से तंग आकर असम की जनता अब बदलाव को तैयार है।गौरतलब है कि असम में मुख्यमंत्री का कोई चेहरा न होने के कारण छत्तीसगढ़ के विकास को मॉडल रखकर आगामी चुनाव की नैया पार लगाने की कवायद की जा रही है।
केंद्रीय नेतृत्व द्वारा भुपेश बघेल को सौंपे गए दायित्व को सफल बनाने प्रदेश उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्तव के साथ पूर्व जनपद अध्यक्ष सन्दीप शुक्ला, पंकज तिवारी,समीर अहमद,राजकुमार तिवारी,अभिषेक सिंह,शंकर कँवर, अंसार जुंजाणी,यूसुफ खान सहित पूरे असम में छत्तीसगढ़ के कांग्रेसियों ने डेरा डाल कर मोर्चा संभाल रखा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here